ख्वाहिश तो न

ख्वाहिश तो न थी किसी से दिल लगाने की… पर किस्मत में दर्द लिखा था…तो मोहब्बत कैसे न होती…!!!

You may also like

Leave a Reply

Your email address will not be published.