लगाकर आग़ सीने में

lga kar aag seene mai

लगाकर आग़ सीने में, कहाँ चले हो तुम हमदम ? अभी तो राख़ उडने दो, तमाशा और भी होगा…!!

You may also like

Leave a Reply

Your email address will not be published.